राज्य योजना आयोग देगा ’’मोरे डुबुलिया’’ प्रोजेक्ट के लिए राशि


 

राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल जैन
श्रीमती कल्पना तिवारी 

  जिले में गर्भवती माताओं और शिशुओं को कुपोषण से मुक्ति दिलाने, सम्पूर्ण स्वास्थ्य सबके लिए और महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम के समन्वित प्रोजेक्ट ’’मोरे डुबुलिया’’ के जिले में क्रियान्वयन के लिए राज्य योजना आयोग 14 लाख रूपये आवंटित करेगा। इस आशय का आश्वासन राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल जैन ने बीते दिन ग्राम किसलपुरी के उपस्वास्थ्य केन्द्र में आयोजित महिला एवं बाल विकास द्वारा आयोजित गोदभराई एवं मोरे डुबुलिया कार्यक्रम में दिया।
    आयोजित कार्यक्रम में श्री जैन ने जब डुबुलिया के साथ मिट्टी का गुल्लख देखा तो इस संबंध में कलेक्टर मदन कुमार से जानकारी चाही। कलेक्टर ने बताया कि 2 अक्टूबर से जिले में प्रोजेक्ट डुबुलिया की शुरूआत की गई है। चूंकि महिलायें अपने घर परिवार के रोजमर्रा के कार्यो में व्यस्तता के कारण अपने स्वास्थ्य एवं भावी संतान के स्वास्थ्य के संबंध में सोच ही नहीं पाती हैं अतः प्रसव के पूर्व एवं पष्चात् के खान-पान सहित स्वास्थ्य रक्षा के संबंध में संपूर्ण जानकारी उन्हें गोदभराई के दौरान दी जाती है। साथ ही गुल्लख देकर उन्हें अपने घर खर्च से कुछ राशि बचाकर जमा करने की सलाह भी दी जाती है ताकि प्रसव के दौरान या बाद में उन्हें साहूकारों से कर्ज आदि की व्यवस्था नहीं करना पड़े और वे उनके शोषण से मुक्त भी रह सकें। कलेक्टर ने बताया कि डुबुलिया में सिर्फ प्रसव एवं पोषण संबंधी जानकारी ही नहीं बल्कि इसमें उनके भविष्य के लिए विभिन्न विभागों की हितग्राही मूलक योजनाओं की जानकारी के साथ उनके आवेदन प्रपत्र भी उपलब्ध कराये जाते है ताकि वे उनका भी लाभ उठा सकें। उन्होंने बताया कि मोरे डुबुलिया कार्यक्रम के समन्वयक महिला बालविकास की कार्यक्रम अधिकारी कल्पना तिवारी एवं डिण्डौरी परियोजना के अधिकारी गिरीष बिल्लौरे पूरी लगन के साथ इसे जिले में लागू करने प्रयासरत है। जिला प्रशासन कुछ एसे प्रयास भी कर रहा है कि महिला बाल विकास विभाग का मैदानी अमला लगातार अपने सहकर्मियों के सम्पर्क में बना रहें और हाईटेक तरीके से अपनी योजनाओं का क्रियान्वयन करता रहें।

    जानकारी प्राप्त करने के बाद योजना आयोग के उपाध्यक्ष ने श्री बिल्लौरे को प्रोत्साहित करते हुये कहा कि अन्य अधिकारियों को श्री बिल्लौरे से शिक्षा लेनी चाहिए जब एक निशक्त अधिकारी अपने विभाग की योजनाओं को क्रियान्वित करने पूरी लगन से कार्य कर सकते है तो सक्षम व्यक्ति को पीछे नहीं रहना चाहिए। उन्होंने श्री बिल्लौरे को सम्मानित कर प्रोत्साहित किया तथा कलेक्टर को पूरे प्रोजेक्ट की जानकारी सहित प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिये ताकि उसे स्वीकृत कर राशि उपलब्ध कराई जा सकें।
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

योजनाओं का लाभ पात्र हितग्राहियों को पहुँचायें 
राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल जैन द्वारा शासन की योजनाओं की समीक्षा


   राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल जैन ने कहा है कि शासकीय योजनाओं का लाभ उन पात्र हितग्रहियों तक पहुंचना चाहिए जिनके लिए शासन ने योजनायें बनाई है। जिला अधिकारी स्वयं क्षेत्रो का भ्रमण करें और योजनाओं का क्रियान्वयन देखें। ग्राम सभायें वास्तविक रूप में हों और उनमें समाज की भागीदारी सुनिश्चत करने के प्रयास किये जायें। श्री जैन कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला अधिकारियों की बैठक में विभिन्न विभागों की योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में महाकौशल विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री जयसिंह मरावी, नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सुशीला मार्को, कलेक्टर श्री मदन कुमार, वन संरक्षक श्री एल.पी. तिवारी, अपर कलेक्टर ए.पी.सिंह, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुदर्शन सोनी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
   श्री जैन ने कहा कि मनरेगा योजना के तहत पहले अपूर्ण कार्यो को पूरा किया जाय तभी नवीन कार्य स्वीकृत कराये जायें। सभी निर्माण एजेन्सी लंबित कार्यो को पूर्ण करें और पूर्णता प्रमाण पत्र प्रस्तुत करें। भविष्य में योजना आयोग उन्हीं विभागों की योजनाओं में राशि स्वीकृत करेगा जिसमें कलेक्टर द्वारा शत् प्रतिशत कार्य पूर्णता का प्रमाण पत्र दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जिले में रेशम उत्पादन को बढ़ावा देकर इसमें अधिक से अधिक महिलाओं को जोड़ने का प्रयास किया जाय। इसी प्रकार आवास योजनाओं के तहत उन्हें प्राथमिकता दी जायें जिनके पास रहने का कोई स्थान उपलब्ध नहीं है।
   बैठक में कलेक्टर मदन कुमार ने बताया कि जिले में पर्यटन की संभावनाओं को देखते हुये जिला पर्यटन काउंसिल का गठन किया गया है तथा जिले के साहित्यकारों, इतिहासकारों, पुरातत्व विदो को जोड़कर जिले के पर्यटन स्थलों को विकसित करने की योजना बनाई गई है। उन्होंने बताया कि अमरकंटक, बांधवगढ़ डिण्डौरी और कान्हा को जोड़ते हुये टूरिस्ट सर्किल बनाये जाने का प्रयास किया जा रहा है। जिले में लोगों को रचनात्मकता से जोड़ने के लिए पर्यटन फोटो कम्पटीशन एवं जिला ग्रंथालय की योजना भी क्रियान्वित की गई है। जिला ग्रंथालय में विभिन्न विषयों से संबंधित लगभग ढ़ाई लाख रूपये की पुस्तकें आ भी गई हैं।
   बैठक में एन.आर.एल.एम. द्वारा जिले में प्रारंभ की जा रही लोक मित्र योजना की जानकारी देते हुये बताया गया कि इसमें ग्राम पंचायत स्तर पर एक शिक्षित बेरोजगार व्यक्ति का चयन कर उसे लोक मित्र बनाया जायेगा जो ग्रामीणों के पिटीशन लिखने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन दिलाने, बीमा क्लेम सहित अन्य योजनाओं का लाभ दिलाने का कार्य करेगा। इसे पंचायत द्वारा निर्धारित सेवा शुल्क दिया जायेगा। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुदर्शन सोनी ने मनरेगा, रेशम उत्पादन, मर्यादा अभियान, मुख्यमंत्री आवास मिषन आदि की जानकारी दी। इस अवसर पर महिला बाल विकास, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि विभागो की योजानाओं की प्रगति का पावर प्रजेन्टेशन भी किया गया।
   बैठक के पूर्व योजना आयोग के उपाध्यक्ष ने ग्राम बरगा में बन रहे जलाशय का अवलोकन किया और उपस्वास्थ्य केन्द्र में आयोजित गोद-भराई कार्यक्रम में भी सम्मिलित हुये।


 स्रोत :- पी आर ओ समाचार  :

राज्य योजना आयोग देगा ’’मोरे डुबुलिया’’ प्रोजेक्ट के लिए राशि , 
Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s