प्रीत निमंत्रण ..!


प्रिया,सहज ही तुमने क्योंकर
भेजा मुझ तक प्रीत निमंत्रण ..!
*********************
मैं विरही हूँ तुम प्रतिबंधित
हर आहट पे हुए सशंकित
चिंता भरे हरेक पल मेरे
मन बिसरा करना अब चिंतन !
हूक उभरती तुम्हें याद कर
बिना मिलन हर जीत विसर्जन !
प्रिया,सहज ही तुमने क्योंकर
भेजा मुझ तक प्रीत निमंत्रण ..!
*********************
तुम्हें खोजतीं आंखें मेरी
टकटक शशि की ओर निहारें !
तुम उस पथ से आतीं होगी ,
सोच के अँखियाँ पंथ-बुहारें !
तुम संयम की सुदृढ़ बानगी
मैं संयम से सदा अकिंचन !
प्रिया,सहज ही तुमने क्योंकर
भेजा मुझ तक प्रीत निमंत्रण ..!

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s