“संस्कारधानी जबलपुर की चर्चित कोरीओग्राफ़र :स्वर्गीय भारती सराफ “


14 अक्टूबर 1976 को पिता श्री भगवान दास सराफ – माता श्रीमती विमला देवी के घर दूसरी बेटी को रूप में जन्मी ” भारती सराफ ” जो एक दिन कत्थक का माइल -स्टोन बनेंगी कोई नहीं जानता था…. ! किंतु पत्थरों के इस शहर की तासीर गज़ब है कला साधना करते यहाँ कोई हताश कभी न हुआ था न होगा ये तो तय शुदा है……!
कुमारी भारती सराफ का जीवन कला साधना का पर्याय था ।शरदोत्सव 07 की एक शाम मुझे अच्छी तरह याद है जब मुझे भी ज़बावदारी का एहसास करा गयी थी भारती जी हाँ ……मुझे याद आ रहा है वो चेहरा सांवली गुरु गंभीर गहरी आंखों वाली भारती पिछले बरस अपने कलाकारों को इकट्ठा कर साधन का इंतज़ार कर रही थी मैंने उसे उस बस में बैठा ना चाहा जो कलाकारों को लाने ले जाने मुझे लगा भारती के चेहरे पर कोई चिंता है सो पूछ ही लिया -क्या,कोई परेशानी है ?
“सर,बस तो गलियों में नहीं जाएगी ”
“हाँ,ये बात तो है…! फ़िर क्या करुँ…..?”
“…………….”एक दीर्घ मौन गोया कह रही हो की सर कोई रास्ता निकालें…?
मैंने आगापीछा कुछ न सोचते हुए अपनी सरकारी जीप में बैठने को कहा । क्षमता से ज़्यादा लोगों के बैठनै से गाड़ी चलाने में रोहित को असुविधा तो हो रही थी लेकिन भारती की चिंता अब मेरे चितन का विषय बन चुकी थी सो मेरे कारण मातहत ड्रायवर भी आसन्न संकटों से बचाने मान नर्मदा को प्रणाम कर जबलपुर शहर को चल पडा आख़िर जिम्मेदारी भी कोई चीज़ है…!
जब सारे कलाकार बच्चे छोड़ दी गए उनके-अपने अपने घरों में तब राहत मिली थी भारती को । किंतु बार बार मुझे कृतज्ञ भाव से देखती भारती की आँखें विनम्र थीं ।
आख़िर कह उठी “आपका आभार कैसे कहूं ?”
मुझे लगा कह दूँ की जिम्मेदारी का एहसास कराने वाला व्यक्तित्व तुझे मै प्रणाम करता हूँ किंतु मैंने उससे बस इतना कहा था:”बेटे,इसकी कोई ज़रूरत नहीं ?”
######################################
पाँच अप्रेल 2008 को जाने किस तनाव ने भारती सराफ को “आत्म हन्ता बना दिया ?”
उस कला साधिका जिसमें नित नूतन प्रयोग की प्रतिभा थी , जिसमें कत्थक को पूरे उसी अंदाज़ में पेश करने की क्षमता थी जिस अंदाज़ में प्रस्तुति के “शास्त्रीय निर्देश ” हैं । साथ ही साथ नृत्य में “फ्यूज़न”का बेहतरीन प्रयोग ,भारत-नाट्यम की प्रस्तुति अधुनातन गीत “आफरीन-आफरीन”पर ! पिछले बरस गणतंत्र दिवस पर ए आर रहमान की रचना “वन्देमातरम” के साथ कत्थकलि,भारत-नाट्यम,राजस्थानी,तथा म प्र के लोक नृत्यों यथा गेढ़ी-नृत्य का एक ही बीत पर प्रस्तुतीकरण “न भूतो न भविष्यति”का सटीक उदाहरण था ।
भारती ने स्कूल,कालेज,अन्तर-कालेज,यूनिवर्सिटी ,स्तर की प्रतियोगिताओं में पारितोषिक ही नहीं पाए वरन भारत भवन रवीन्द्र भवन भोपाल सहित देश के कई प्रतिष्ठित मंचों पर एकल एवं सामूहिक प्रस्तुतियां दीं । निधन के पूर्व वे न्यू जर्सी में प्रोग्राम देने की तैयारी में थीं ।
७०-८० के बीच संस्कारधानी जबलपुर को देश भर में प्रतिष्ठा दिलाने वाली बीना ठाकुर की शिष्या से 200 बच्चों ने नृत्य की शिक्षा ली । साथ ही वे केंदीय विद्यालय वन एस टी सी तथा अरविन्द पाठक संगीत स्कूल की नृत्य गुरु थीं ।
अब अनघ,रुद्राक्ष,अपनी बुआ से नृत्य सीखने की अधूरी अभिलाषा लेकर बड़े होंगे तो भाई आनंद को याद आएगी भारती हर शाद उत्सव पर…. कवि हृदया बहन डाक्टर नूपुर निखिल देशकर -यही कहतीं सोचतीं हैं:-
“ये सच है अब तुम कभी न मुड़कर आओगे : ये भी मिथ्या नहीं की तुम सबको याद आओगे ”
” शरदोत्सव की शुरुआत जिस कलाकार के सरस्वती वन्दना नृत्य रचना से होती थी
वो कलाकार आज नहीं है …………समय के प्रवाह के साथ जीवंत होंगे और कई कलाकार किंतु सत्य निष्ठ कलाकारों की सूची में सबसे ऊपर होगी “भारती सराफ ”
अशेष-श्रद्धांजलि
[विवरण अपनी स्मृतियों,एवं स्वर्गीया भारती की बहन डाक्टर नूपुर से हुई चर्चा पर आधारित ]

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s